शुक्रवार, 8 जून 2012

कम्युनिस्टों के नए आदर्श स्वामी विवेकानंद !


वैचारिक अस्पृश्यता ने दुनिया को सैकड़ों छोटे बड़े युद्ध की ज्वाला में जलाया है | सरहदों की लकीरें भी इस वैचारिक अस्पृश्यता की गवाही देती है | आज भी सामाजिक अस्पृश्यता से ज्यादा खतरनाक है तथाकथित बुद्धिजीवियों का वाद राग और उससे उपजते वैचारिक छुआ-छूत से समाज के सर्वांगीण विकास में रूकावट आना | ऐसे ही वैचारिक सवर्णों का एक तबका लम्बे अरसे से भारत के सामाजिक समरसता और विकास में दीमक की तरह बैठे रहे | सायद इन्हें भी समय रहते यह महसूस नहीं हो पाया कि समाज के मूल धारा के विपरीत होकर इन्होने कितना बड़ा नुकसान किया है | यह विचार का जिद था | वैसा ही जिद जैसे कुछ लोग देश-काल और मौसम बदलने पर भी अपने पसंद का भोजन कपड़ा और दिनचर्या नहीं छोड़ना चाहते, परिणामस्वरूप उनका स्वस्थ्य ख़राब हो जाता है और फिर वो प्रकृति के साथ चलना स्वीकार कर लेते हैं | भारत के कम्युनिस्टों के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है | कम्युनिस्ट जब भारत में प्रवेश किया उस समय भारत की परिस्थिति वैसी नहीं थी जहां से कम्युनिस्ट आये थे | लेकिन इन्होने एक वैचारिक सांचा (फ्रेम) तैयार किया था जिसमे भारतीय समाज को फिट कर देने की जिद थी | भारत आगमन के लगभग आठ दसक बाद कम्युनिस्टों की जिद  उसी तरह ख़त्म हो रही है जैसे कोई नादान बच्चा मेले में हाथी पर चढ़ने के बाद उसे साथ ले जाने की जिद कर बैठता है, लेकिन जल्दी ही उसे समझ में बात आ जाती है और वह मिट्टी या प्लास्टिक के हाथी लेने के बाद चुप हो जाता है | आजादी के पूर्व भारत में कम्युनिस्ट विचारों का भरण पोषण होता रहा क्यों कि अंग्रेज पूंजीवादी थे और साम्राज्यवादी भी इसीलिए अंग्रेज का विरोध कम्युनिस्ट का वैचारिक अधिकार था |प्रश्न यह उठता है कि स्वतंत्र भारत में कौन सा पूंजीवाद और कौन सा साम्राज्यवाद था जिसको खत्म करने के लिए वामपंथ जारी रहता ? लेकिन यह एक वैचारिक राग था जिसे आलापते रहना जरुरी था ताकि सोवियत या अन्य कम्युनिस्ट व्यवस्था के सफल होने पर यह कहा जा सके या आन्दोलन खड़ा किया जा सके कि  भारत में भी वामपंथी व्यवस्था ही जरुरी है | सोवियत सफल नहीं हुआ, भारत का वामपंथ चरमपंथ में बदल गया | भारत की कम्युनिस्ट पार्टी अब नए राग के साथ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी हो गई | जल्दी ही और परिवर्तन हुआ एक और शब्द गूंजा कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया मार्क्सवादी लेलिनवादी (CPI ,ML) | वामपंथ के और भी कई टुकड़े हुए | किसी ने सुभाष चंद्र बोस को अपना आदर्श बनाकर लोगों को गुमराह किया तो किसी ने भगत सिंह को ही वामपंथी साबित करने के लिए झूठा इतिहास लिख डाला | इस पूरे घटनाक्रम में दो बातों पर पूरा वामपंथ कभी एकमत नहीं हो पाया | कम्युनिस्ट के स्थापना के समय ही कई लोग ऐसे थे जो भारत के कम्युनिस्ट पार्टी को भारतीयता का जामा पहनना चाहते थे, लेकिन ऐसा संभव नहीं हुआ लेकिन विचारधारा के अन्दर भारतीयता का राग भी चलता रहा | कम्युनिस्ट विचार में भारतीयता के समर्थकों का मत था कि वामपंथ का माडल यदि भारतीय होगा तो हमारी जड़ें आम जनता में ज्यादा मजबूत हो पायेगी और इसके लिए भारतीय परंपरा का हम सम्मान करें, दूसरा हमारा आदर्श मार्क्स ,लेलिन और स्टालिन न होकर भारतीय का ही कोई महा पुरुष हो, हम अपने आप को नास्तिक न कहें बल्कि धार्मिक बातों पर चुप रहें या इसे व्यक्तिगत विषय बताकर लोगों के ऊपर छोड़ दे | इन्ही प्रश्नों के कारण सुभाष और भगत सिंह के नाम का प्रयोग कम्युनिस्टों ने बड़े ही चालाकी से किया परन्तु भारत के जनमानस को कम्युनिस्ट व्यव्हार में सुभाष और भगत सिंह नहीं दिखे,मुठ्ठी भर लोगों ने भी वामपंथ का साथ छोड़ दिया | अब वैचारिक शुन्यता है | कोई आदर्श नहीं है | मार्क्स और लेनिन युवाओं को अब प्रभावित नहीं करता | ऐसे में बहुत बड़ा सवाल खरा हुआ कि घराना बचाए रखना है तो कोई न कोई राग तो आलापना ही पड़ेगा | अबकी बार कम्युनिस्टों का यह नया राग है, "राग विवेकानंद" |      मौका  है स्वामी विवेकनद के १५० वीं जयंती वर्ष का | पिछले दिनों कम्युनिस्टों के एक बैठक में मंच के बैकड्राप पर जो बैनर लगा था उसमे स्वामी विवेकानंद की तस्वीर थी | इतना ही नहीं इस जयंती को कम्युनिस्ट वर्ष भर अपने इकाइयों में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से मनायेंगे |स्वामी विवेकानंद को सम्मान देने का हक़ सबको है,इसलिए इस कदम का तो स्वागत होना ही चाहिए | बस ये बात समझ से बाहर हो जाती है कि यदि यह आदर्श सिर्फ युवाओं को गुमराह करने भर के लिए है या वास्तव में कम्युनिस्टों के चाल-चरित्र में भी कोई बदलाव आएगा | स्वामी विवेकानंद को जिस आधार पर वामपंथी विचारों के करीब लाकर लोगों को दिखाते हैं वह है ''नर सेवा'' और ''दरिद्र नारायण'' का विचार | लेकिन कम्युनिस्टों को ये ध्यान रखना होगा कि स्वामी जी ने लूट-मार कर दरिद्रता मिटने की बात नहीं कही थी, उन्होंने ये भी नहीं कहा था देश में रहकर और देश का खाकर चीन या सोवियत का गुणगान करो | स्वामी जी के विचारों को अपनाने के लिए कम्युनिस्टों को भारतीय रंग चढ़ाना पड़ेगा, भारत के इस अरुणोदय के बेला में जहां भारत की हर ओर तरक्की हो रही है वहाँ संध्याकालीन सुलाने वाला राग नहीं चलेगा | मन,कर्म और वचन में एकरूपता रखते हुए देश को सर्वोपरि मानकर यदि वामपंथ आगे बढेगा तो निश्चय ही स्वामी जी के प्रति वामपंथियों की सच्ची श्रधा और निष्ठा मानी जाएगी,और वामपंथ भी फिर से एक राजनीतिक विकल्प के तौर पर लोगों को पसंद आ सकता है और सबसे बड़ी बात की 'सं गक्षध्वंग सं वदध्वं ............' वाले देश में वैचारिक अस्पृश्यता में कमी भी आएगी |

राजीव पाठक 
+91 9910607093

6 टिप्‍पणियां:

  1. स्वामी विवेकानंद का कम्युनिस्ट सम्मान करते हैं। वे भी समाज को बदलना चाहते थे और कुछ कुछ वैसा ही बनाना चाहते थे जैसा कम्युनिस्ट बनाना चाहते हैं। लेकिन स्वामीजी मूलतः भाववादी थे जब कि कम्युनिस्ट भौतिकवादी हैं। जिस रीति से स्वामी जी दुनिया को बदलना चाहते थे उस तरीके से बिलकुल नहीं बदली जा सकती है। यही कारण है कि स्वामी जी कम्युनिस्टों के आदर्श नहीं हो सकते।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये वामपंथी इतने ढोंग करते है एक ओर सही! इस बहाने कम से कम एक भारतीय महापुरुष का आदर तो करने लगे!

    उत्तर देंहटाएं
  3. समाज में बदलाव वि‍चारधाराओं से नहीं आता. सुलझे हुए मस्‍ति‍ष्‍कों से आता है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहमत हूँ। रूढ विचारधाराओं ने समाज का काफ़ी सत्यानाश किया है।

      हटाएं
  4. @ सुभाष और भगत सिंह के नाम का प्रयोग कम्युनिस्टों ने बड़े ही चालाकी से किया परन्तु भारत के जनमानस को कम्युनिस्ट व्यव्हार में सुभाष और भगत सिंह नहीं दिखे

    - बुतशिकनों की बुतपरस्ती न असली होती है न टिकाऊ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वामी जी की जयंती कम्युनिस्ट भी मन रहे है तो ये अच्छी बात है , आर.एस.एस भी मना रही है, कांग्रेस की यूपीए वाली केंद्र सरकार भी मना रही है
    १.हिंदूवादी स्वामी जी के विचारो को उपयोग करते है , जबकि स्वामी जी के गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई सभी धर्मो में रह चुके थे तथा शिकागो भाषण में स्वामी जी कहते है की अगर कोई धर्म ये चाहे की सम्पूर्ण विश्व में केवल वो ही धर्म रहे तो यह मुर्खता भरी बात होगी....
    ,सभी धर्म ध्वजों पर " युद्ध नहीं शांति लिख दो "...
    2.कांग्रेस के गुंडागर्दी करने वाले एन.एस.यु.आई और यूथ कांग्रेस भी स्वामी जी को आदर्श बताते है और अपने नेताओ की रैली में जाने आजकल कांग्रेस संगठन के चुनावो के लिए हस्तालो में शराब बत्वाते है , कांग्रेस तो भोगवाद और भ्रस्ताचार का दूसरा नाम है , पता नहीं ऐसे लोग स्वामी जी की जयंती मनाये तो स्वामी जी का भला होग या बुरा
    3. कम्युनिस्ट सदैव नास्तिक रहे है भारत में भी वो भगत सिंह की पुस्तक "मै नास्तिक क्यों हु" अपने नए रंगरुटो को पहले पढाते है,
    अक्सर कम्युनिस्ट किताबी कीड़े होते है ( जिससे काफी ज्ञानवान भी होते है ) ऐसे में अगर कम्युनिस्ट कामरेड्स अगर स्वामी जी की किताबे पढेंगे तो उनके भटकने का चांस बनता है , क्योकि स्वामी जी भी धर्म को तर्क और विज्ञानं की कसौटी पर सिद्ध करते है
    विनीत-
    स्वामी जी का एक भक्त
    " अद्वैत "

    उत्तर देंहटाएं