शनिवार, 22 मई 2010

मणिपुर में स्थिति गंभीर


जैसा कि आप सभी को विदित है,पिछले कई महीनो से मणिपुर में अशांति और भय का वातावरण बना हुआ है.येसा पहली बार तो नहीं हो रहा है,लेकिन स्थिति पहले से गंभीर जरुर है.कुछ मुठ्ठी भर उग्रवादियों ने सभी गैर मणिपुरी खासकर राष्ट्र भाषी लोगो को मणिपुर से बाहर चले जाने की धमकी दी हुई है.राज्य और केंद्र सरकार के पास अभी तक कई प्रार्थना पत्र एवं समस्या की वास्तविक स्थिति को लेकर प्रभावित लोग गए है.लेकिन इन समस्याओ को कितनी गंभीरता से लिया गया ये पिछले एक सप्ताह के स्थिति से स्पष्ट हो जाता है.


पिछले एक सप्ताह से मणिपुर को जाने वाली गुवाहाटी,दक्षिण असम या अरुणाचल से सभी यातायात के साधन बंद है.मणिपुर के अन्दर लगातार बंद से पेट्रोल दो सौ रुपये तक भी प्रयाप्त मात्र में नहीं मिल रहा है.सभी प्रकार के खाद्य सामग्री की अनुपलब्धता के कारण लोगो को दोगुने दामो पर भी जरुरी सामान नहीं मिल पा रहा है.बच्चो के लिए दूध और आवश्यक दवाइयों की भाड़ी कमी है.इन समस्याओं से मणिपुर के आम जनता भी परेशान है.वहीँ राज्य सरकार के कई फैसलों से गैर मणिपुरी कि समस्या और बढ़ गई है.

पिछले दिनों राज्य सरकार ने एक फैसला लिया कि तत्काल स्थिति के सामान्य होने तक किसी भी प्रकार के संपत्ति के खरीद फरोक्त की अनुमति नहीं दी जाएगी.इस फैसले के कारण वहां से पलायन कर रहे पंजाबी,मारवारी,उत्तर प्रदेश,और बिहार सहित सभी अन्य गैर मणिपुरी को लोगों को अपने संपत्ति या तो उग्रवादियों को मुफ्त देने पर रहे है या उसे कौड़ी के दाम बेचने पर वो मजबूर है.संपत्ति के खरिदगर उग्रवादी या सरकार के एसे मंत्री ही है जो अप्रत्यक्ष रूप से उग्रवादियों के साथ है.

लेकिन विडम्बना ये है कि समाचार पत्रों या खबरिया चैनलों के लिए ये समाचार टी.आर.पी. बढ़ाने वाला नहीं है इसलिए महत्वपूर्ण नहीं,और मणिपुर से जाकर लोग जंतर-मंतर पर धरना दे नहीं सकते,दिल्ली का चक्का जाम कर नहीं सकते इसलिए केंद्र सरकार के लिए ये कोई समस्या नहीं है.

देश के आम जनता तक ये समाचार पहुचे और जनता का शंख नाद हो ताकि केंद्र सरकार की कुम्भ्करनी नींद टूटे,इस प्रयाश में अपनी भूमिका सुनिश्चित करे और आप भी भारत को एक और विभाजन से बचाए.आपके सहायता की उम्मीद लिए आपके बंधू प्रतीक्षारत है.



राजीव पाठक

पूर्वोत्तर भारत

rajeevpathak@journalist.com

पूर्वोत्तर के अन्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें:- http://pathakpathak@blogspot.com/

7 टिप्‍पणियां:

  1. baat gambhir hai lekin aage - age sab jagah esa hona hai kyo ki bhaart ke log gahri neend me hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. धिक्कार है मीडिया को और प्रशासन को....
    स्थिति को आम जनता तक यूं ही पहुंचाते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेकिन विडम्बना ये है कि समाचार पत्रों या खबरिया चैनलों के लिए ये समाचार टी.आर.पी. बढ़ाने वाला नहीं है इसलिए महत्वपूर्ण नहीं,और मणिपुर से जाकर लोग जंतर-मंतर पर धरना दे नहीं सकते,दिल्ली का चक्का जाम कर नहीं सकते इसलिए केंद्र सरकार के लिए ये कोई समस्या नहीं है.
    जनमानस के दर्द को समझते हुए आवाज उठाने का आपका यह प्रयास सार्थक और प्रशंनीय है .... आम जनता को इस दिशा में प्रेरित करने की आज शख्त जरुरत है .. आशा है धीरे-धीरे इस दिशा में जनमानस जागरूक होगा और आपका प्रयास निरंतर बना रहेगा ...
    ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत और बहुत शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही गंभीर समस्या है, सरकार ने तो आँखें मूंद रखी है, आपका स्वागत है ब्लॉगजगत में!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं